Mukammal Na Hoyi Chahat Punjabi Song Lyrics – Shaurya Mehta, Anjana Padmanabhan Lyrics

Mukammal Na Hoyi Chahat Punjabi Song Lyrics – Shaurya Mehta, Anjana Padmanabhan Lyrics.

Lyrics Of  latest punjabi song Mukammal Na Hoyi Chahat sung by Shaurya Mehta, Anjana Padmanabhan. The music of this punjabi song is given by Dh Hrmony, Srm Alien. It’s lyrics has been written by Rishi Aazad, Pooja Sandhu Naik. Enjoy and stay connected with All For Everyone.
Singer Shaurya Mehta, Anjana Padmanabhan
Music Dh Hrmony, Srm Alien
Song Writer Rishi Aazad, Pooja Sandhu Naik

Mukammal Na Hoyi Chahat Punjabi Song Lyrics In English : –

Mukamal na hui chahat
Kisi se kaya sikayat hai
Mukamal na hui chahat
Kisi se kaya sikayat hai

Judda karana mhobbat ki
Apni purani aadat hai
Jo ham na mil sake ye to
sitam tha vakat ka koi

YePal bhar ka yo milna bhi
Vo rab ki hi inayat hai
Mukamal na hui chahat
Kisi se kaya sikayat hai

mera dil ab kisi ka hai
Magar dhadkan tumhari hai
Hai likhi naam pai teri
Meri ye sans sari hai

Jo mujhme mai hu
baaki vo tumhari hi mahobat hai
Mukamal na hui chahat
Kisi se kaya sikayat hai

Jo ham na mil sake ye to
sitam tha vakat ka koi

Ye Pal bhar ka yo milna bhi
Vo rab ki hi inayat hai
Mukamal na hui chahat
Kisi se kaya sikayat hai

Yo saari ummar jina bhi
kaha ab asha hai tum bin
Magar jina padega mujhko ye
To imtahan tum bin hai

Tumhari yaad mai hi rahna
hi ab meri ibadat hai
Mukamal na hui chahat
Kisi se kaya sikayat hai

Jo ham na mil sake ye to
sitam tha vakat ka koi
Ye Pal bhar ka yo milna bhi
Vo rab ki hi inayat hai

Mukamal na hui chahat
Kisi se kaya sikayat hai

Mukammal Na Hoyi Chahat P
Song Lyrics In Hindi : –

अगर तुम मेरी होती तो 

बात कुछ और होती 

मेरी सुबह तुमसे होती मेरी 

शामे तुमसे ढलती

मेरे हर ख्वाब तुम्हारे मिलने 

से पुरे हो जाते

ये जो मुज़मे अधूरापन है 

तुम होते तो ना होता  

मुकम्मल ना हुई चाहत 

किसी से क्या शिकायत है

मुकम्मल ना हुई चाहत

किसी से क्या शिकायत है

जुदा करना मोहब्बत की

पुरानी अपनी आदत है

जो हम ना मिल सके ये तो 

सितम था वक्त का कोई

जो हम ना मिल सके ये तो 

सितम था वक्त का कोई

यू पल भर का यह मिलना भी 

तू रब की भी यह इनायत है

मुकम्मल ना हुई चाहत 

किसी से क्या शिकायत है

मेरा अब दिल किसी का है 

मगर धड़कन तुम्हारी है

हे लिखी नाम पे तेरी 

मेरी ये सांस सारी है

तू मुज़मे में हु बाकी वो 

तुम्हारी ही मोहब्बत ह

मुकम्मल ना हुई चाहत 

किसी से क्या शिकायत है

जो हम ना मिल सके ये तो 

सितम था वक्त का कोई

यू पल भर का यह मिलना भी 

तू रब की भी यह इनायत है

मुकम्मल ना हुई चाहत 

किसी से क्या शिकायत है

जो हम ना मिल सके ये तो 

सितम था वक्त का कोई

यू पल भर का यह मिलना भी 

तू रब की भी यह इनायत है

तुमको अपनी इतनी जिद 

में कर दिया जुदा

ना मैंने पलट कर देखा ना

तुमने भी सुना

यु सारी उम्र जीना भी कहां 

आसान है तुम बिन

मगर जीना पड़ेगा तो 

मुझको इंतहा तुम बिन

तुम्हारी याद में ना 

रहना अब मेरी इबादत है

मुकम्मल ना हुई चाहत 

किसी से क्या शिकायत है

जो हम ना मिल सके ये तो 

सितम था वक्त का कोई

यू पल भर का यह मिलना भी 

तू रब की भी यह इनायत है

मुकम्मल ना हुई चाहत 

किसी से क्या शिकायत है

जो हम ना मिल सके ये तो 

सितम था वक्त का कोई

यू पल भर का यह मिलना 

भी तू रब की भी यह इनायत है

Song Details : 

Artist: Bhagyashree, 

Santosh Rammeena Mijgar

Video: Shivaji Lotan Patil

Music Label: T-Series

Share This Post:

Here you can find shayari, education, how to and style and all new latest songs Lyrics.

Leave a Comment